TOP -30 (तहज़ीब हाफ़ी) Tehzeeb Hafi Shayari In Hindi (2022)

Tehzeeb Hafi Shayari In Hindi

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारी इस नई पोस्ट Tehzeeb Hafi Shayari In Hindi में आज हम आपके लिए लाये बेस्ट आज हम बात करेंगे Tehzeeb Hafi Shayari इस पोस्ट में Tehzeeb Hafi Shayari इंटरनेट पर ढूढ ढूढ कर आपके लिए सबसे बढ़िया कलेक्शन एक जगह इकट्ठा किया है ताकि आपके हर एक Tehzeeb Hafi Shayari In Hindi एक ही जगह आसानी से मिल सके तो पढ़िए अपनी मातृभाषा हिंदी में बेस्ट

Tehzeeb Hafi Shayari In Hindi

1.गली से कोई भी गुज़रे तो चौंक उठता हूँ
नये मकान में खिड़की नहीं बनाऊंगा।।

2.मैं एक फिल्म बनाऊंगा अपने सरवत पर
उसमें रेल की पटरी नहीं बनाऊंगा।।

3.मेरे ख़ाक उड़ाने पर पाबन्दी आयत करने वालों
मैंने कौन सा आपके शहर का रास्ता चोरी कर लेना है।।

4.जो तेरे साथ रहते हुए सोगवार हो,
लानत हो ऐसे शख़्स पे और बेशुमार हो।।

5.मै फूल हूँ तो फिर तेरे बालो में क्यों नही हूँ
तू तीर है तो मेरे कलेजे के पार हो।।

6.जहन पर जोर देने से भी याद नहीं आता कि हम क्या देखते थे।सिर्फ इतना पता है कि हम आम लोगों से बिल्कुल जुदा देखते थे।।

7.सच बताएं तो तेरी मोहब्बत ने खुद पर तवज्जो दिलाई हमारी तू हमें चूमता था तो घर जाकर हम देर तक आईना देखते थे।।

8.थोड़ा लिखा और ज़्यादा छोड़ दिया
आने वालों के लिए रास्ता छोड़ दिया।।

9.लड़कियाँ इश्क़ में कितनी पागल होती हैं
फ़ोन बजा और चूल्हा जलता छोड़ दिया।।

10.तुम क्या जानो उस दरिया पे क्या गुजरी
तुमने तो बस पानी भरना छोड़ दिया।।

11.सब परिंदों से प्यार लूँगा मैं
पेड़ का रूप धार लूँगा मैं।।

12.रात भी तो गुजार ली मैंने
जिन्दगी भी गुजार लूंगा मैं।।

13.तू निशाने पे आ भी जाए अगर
कौन सा तीर मार लूँगा मैं।।

14.एक और शख़्स छोड़कर चला गया तो क्या हुआ
हमारे साथ कौन सा ये पहली मर्तबा हुआ।।

15.अज़ल से इन हथेलियों में हिज्र की लकीर थी
तुम्हारा दुःख तो जैसे मेरे हाथ में बड़ा हुआ।।

16.ख्वाबों को आँखों से मिन्हा करती है
नींद हमेशा मुझसे धोखा करती है।।

17.बुरे मौसम की कोई हद नहीं तहजीब हाफी
फिजा आई है और पिंजरों में पर मुरझा रहे हैं।।

18.ख़ाक ही ख़ाक थी और ख़ाक भी क्या कुछ नहीं था
मैं जब आया तो मेरे घर की जगह कुछ नहीं था।।

19.ये भी सच है मुझे कभी उसने कुछ ना कहा
ये भी सच है कि उस औरत से छुपा कुछ नहीं था।।

20.यही कहीं हमें रस्तों ने बद्दुआ दी थी
मगर मैं भुल गया और कौन था मेरे साथ।।

21.अकेला आदमी हूँ और अचानक आये हो, जो कुछ था हाजिर है अगर तुम आने से पहले बता देते तो कुछ अच्छा बना लेता।

22.अगर कभी तेरे नाम पर जंग हो गई तो
हम ऐसे बुजदिल भी पहले सफ में खड़े मिलेगे।।

23.तुझे ये सड़के मेरे तवस्सुत से जानती हैं
तुझे हमेशा ये सब इशारे खुले मिलेंगे।

24.उसकी जबान में इतना असर है कि निशब्द
वो रौशनी की बात करे और दीया जले।।

25.क्या मुझसे भी अज़ीज़ है तुमको दीए की लौ
फिर तो मेरा मज़ार बने और दीया जले।।

26.सूरज तो मेरी आँख से आगे की चीज़ है
मै चाहता हूँ शाम ढले और दीया जले।।

27.तेरे ही कहने पर एक सिपाही ने
अपने घर को आग लगा दी शहज़ादी।।

28.किसी दरख़्त की हिद्दत में दिन गुज़ारना है
किसी चराग़ की छाँव में रात करनी है।।

29.तमाम नाख़ुदा साहिल से दूर हो जाएँ
समुन्दरों से अकेले में बात करनी है।।

30.हमारे गाँव का हर फूल मरने वाला है
अब उस गली से वो ख़ुश्बू नहीं गुज़रनी है।।

और पड़े – Alone Motivational Status In Hindi (2020)
और पड़े – Success Status In Hindi

FOLLOW NOW – INSTAGRAM

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारी Tehzeeb Hafi Shayari In Hindi पसंद आये है आप अपने विचार कमेंट कर के हमे Motivate कर सकते है

About Surendra Uikey

Surendra Uikey Is A Co-Founder Of Motivational Shayari. He Is Passionate About Content Writer Shayari, Quotes, Thoughts And Status Writer

View all posts by Surendra Uikey →

Leave a Reply

Your email address will not be published.