आपकों प्‍यार करने से डर लगता है
आपकों खोने से डर लगता है
कहीं आखों से गुम ना हो जाये याद
अब रात में सोने से डर लगता है।।

प्रपोज करने की शायरी

बिन देखे तेरी तस्‍वीर बना सकते हैं
बिन मिले तेरा हाल बना सकते है
हमारे प्‍यार में इतना दम है की
तेरे आसूं अपनी ऑख से गिर सकते हैं।।

प्रपोज करने की शायरी

अगर जुबान से शब्द ना निकले
तो मेरी आँखों को पढ़ लेना
दिल अगर कुछ बया ना कर पाए
तो खुद ही हाल-ऐ-दिल समझ लेना।।

प्रपोज करने की शायरी

खुलकर ये बात स्वीकार करता हूं,
कि मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूं,
आज प्रपोज डे है इसीलिए,
अपने प्यार का इजहार करता हूँ।।

प्रपोज करने की शायरी

कुछ दूर मेरे साथ चलो, हम सारी कहानी कह देंगे,
समझे ना तुम जिसे आँखों से, वो बात मुंह जबानी कह देंगे।।

प्रपोज करने की शायरी

ये वादा है हमारा, ना छोडेंगे कभी साथ तूम्हारा,
जो गये तूम हम को भूल कर, ले आयेंगे पकड कर हाथ तुम्हारा।।

प्रपोज करने की शायरी

देखा तुमको जब से है, ये बात इस दिल में तब से है,
मिल जाये मुझको प्यार तेरा, फिर माँगना कुछ ना रब से हैं।।

प्रपोज करने की शायरी

तू हकीकत-ए-इश्क है या कोई फरेब,
ज़िन्दगी में आती नहीं ख़्वाबों से जाती नहीं।।

प्रपोज करने की शायरी

एक दिन कह लीजिए, जो कुछ है दिल में आप क
एक दिन सुन लीजिए, जो कुछ है हमारे दिल में।।

प्रपोज करने की शायरी

जो इंसान रोते-रोते गुस्से में सब कुछ बोल देता है, वो सच्चा होता है, क्योंकि गुस्सा और रोना इंसान को सच बोलने के लिए मजबूर कर देते हैं।।

प्रपोज करने की शायरी