राजनीति पर शायरी

1.राजनीति को विरासत समझ बैठे हैं
भ्रष्टाचार को सियासत समझ बैठे हैं
सत्ता के नशे में इतने चूर हैं ये नेता कि
देश को अपनी रियासत समझ बैठे हैं।।

राजनीति पर शायरी

2.संसद में बैठ अनपढ़ नेता बना रहे नीतिगड्ढे में देश को धकेल रही है ये राजनीति।।

राजनीति पर शायरी

3.राजनीति में अब युवाओं को भी आना चाहिए,देश को ईमानदारी का आईना दिखाना चाहिए।।

राजनीति पर शायरी

4.सरकार को गरीबों का ख्याल
कब आता है चुनाव नजदीक आ
जाए तो मुद्दा उछाला जाता है।।

राजनीति पर शायरी

5.लोकतंत्र जब अपने असली
रंग में आता हैं तो नेताओं की
औकात का पता चल जाता हैं।

राजनीति पर शायरी

6.नेता की बातों में सच्चाई का अभाव होता है, झूठ बोलना तो इनका
स्वभाव होता हैं।।

राजनीति पर शायरी

7.सहलाने ग़रीब के घाव आ जाएगा
डूबती देख बचाने नाव आ जाएगा
समाज सेवक बन घूमता है नेता
जब भी देश में चुनाव आ जाएगा।।

राजनीति पर शायरी

8.अगर राजनीति में चाहते हैं
बदलाव तो ईमानदार को ही
जिताओ चुनाव।।

और पड़े राजनीति पर शायरी

+ + +

click hare